Breaking News
जी सी मूर्मू ने संभाला सीएजी के तौर पर कार्यभार  |  नई शिक्षा नीति:सामान्य डिग्री प्रोग्राम के स्टूडेंट्स के लिए जरूरी होगी रोजगार की ट्रेनिंग  |  ईडी के सामने आज फिर पेश हुए रिया चक्रवर्ती के भाई शोविक  |  बॉबी देओल की ''क्लास ऑफ  83'' ट्रेलर रिलीज  |  धोनी आईपीएल में अपनी सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में होंगे: मांजरेकर  |  2006 में टेस्ट मैच के दौरान धोनी को जानबूझकर बीमर फेंकी थी: अख्तर  |  पठानकोट में विधायक सहित 25 लोगों की रिपोर्ट आई कोरोना पॉजिटिव  |  कोरोना से विश्व में 1.93 करोड़ से अधिक संक्रमित  |  रूत पोत पर हुए विस्फोट मामले में तीन वरिष्ठ अधिकारी गिरफ्तार  |  अब  फिल्म इंडस्ट्री की इस दिग्गज एक्ट्रेस ने किया सुसाइड  |  
TOP STORY
RNN KHABAR BUERO 01/08/2020 : 01:02 AM
 चीन पर अमेरिका का बड़ा ऐक्शन 24 घंटे में बैन होगा टिक-टॉक
Total views
वॉशिंगटन, एजेंसी |

चीन के साथ बढ़ते तनाव और उसके खिलाफ लगे जासूसी के आरोपों के बीच अमेरिका ने एक बड़ा फैसला किया है। भारत की तर्ज पर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने फैसला किया है कि देश में चीनी वीडियो शेयरिंग मोबाइल ऐप टिक-टॉक को बैन  कर दिया जाएगा। इसके लिए जल्द ही कार्यकारी निर्देश लाया जाएगा। वहीं, ऐसी खबरें भी आ रही हैं कि अग्रणी टेक कंपनी  माइक्रोसॉफ्ट  इसे अमेरिका में ऑपरेशन्स को खरीद सकती है। बता दें कि भारत दो बार में 106 चीनी मोबाइल ऐप्स को बैन कर चुका है।डोनाल्ड ट्रंप के फैसले का बारे में  AF1  ने बताया है कि जहां तक टिक-टॉक की बात है, उसे अमेरिका में बैन कर दिया जाएगा और हो सकता है कि शनिवार को इसे लेकर कार्रवाई कर दी जाए। इससे पहले ट्रंप ने कहा था, ''हम कुछ और चीजें कर सकते हैं, कई विकल्प हैं लेकिन बहुत सी चीजें हो रही हैं इसलिए हम देखेंगे कि क्या होता है लेकिन हम टिक-टॉक को लेकर कई विकल्प देख रहे हैं। इस बात की भी चर्चा हो रही है कि टिक-टॉक के अमेरिका में ऑपरेशन मशहूर टेक्नॉलजी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट खरीद सकती है। द वॉल स्ट्रीट जर्नल ने शुक्रवार को इस बारे में रिपोर्ट किया था कि माइक्रोसॉफ्ट इस दिशा में बातचीत कर रही है और अरबों डॉलर की डील सोमवार तक की जा सकती है। इसे लेकर टिक-टॉक के पैरंट कंपनी बाइटडांस, माइक्रोसॉफ्ट और वाइट हाउस के प्रतिनिधियों के बीच होगी। हालांकि, जरूरी नहीं है कि डील हो ही जाए और मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक राष्ट्रपति ट्रंप खुद नहीं चाहते कि ऐसी कोई डील की जाए। 25 सदस्यों वाली अमेरिकी कांग्रेस की टीम ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से इस बाबत ऐक्शन लेने और अमेरिकी नागरिकों के डेटा को सुरक्षित करने के लिए ठोस कदम उठाने का आग्रह किया था। उन्होंने कहा था कि टिकटॉक के डेटा से चीन की कम्युनिस्ट पार्टी और भी अडवांस होती है। वहीं, भारत ने चीन के 47 और ऐप बैन कर दिए। इससे पहले भी चीन के 59 ऐप बैन किए जा चुके हैं जिनमें टिकटॉक भी शामिल है। बाद में बैन किए गए ऐप्स में ज्यादातर क्लोनिंग वाले ऐप्स शामिल हैं।



Advertisement




Copyright @ 2018 Rashtriya News Network