Breaking News
मैट्रिमोनियल साइट से हुई मुलाकात, शादी का झांसा देकर टीवी एक्ट्रेस के साथ किया रेप, शिकायत दर्ज   |  किसान आंदोलन को लेकर बनाई कमेटी पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी, सदस्य सिर्फ राय दे सकते हैं  |  सीबीएसई बोर्ड परीक्षा 2021 में नकल पर रोक के लिए बोर्ड ने उठाया बड़ा कदम, बायोमेट्रिक सिस्टम से लगेगी हाजिरी   |  गेट 2021: आईआईटी मुंबई ने परीक्षा के लिए जारी की गाइडलाइंस, जाने परीक्षा के समय, तिथि   |  भुवनेश्वर में आल वुमन स्कूटर रैली का हुआ आयोजन, महिलाओं ने दिया यातायात तथा हेलमेट लगाने का संदेश  |  स्पेन के वैज्ञानिकों ने किया दावा, नाले के पानी से ईधन बनाने वाला पर्पल बैक्टीरिया, बिजली बनाने होगा मदद   |  किचन में न हो बेसन, तो आलू से भी बना सकते हैं स्वादिष्ट कढ़ी, नोट करें ये चटपटी पजांबी रेसिपी   |  बॉलीवुड अभिनेत्री दीपिका पादुकोण फिल्म ''महाभारत'' में ''द्रौपदी'' का किरदार निभाती आएगी नजर   |  ममता बनर्जी बोली- बीजेपी माओवादियों से भी खतरनाक, भगवा पार्टी की बैठकों में लोग भेज करेगी डिस्टर्ब   |  जाने ऐसे कोण लोग गेन जिन्हे नहीं लगवानी हैं कोवैक्सीन, भारत बायोटेक ने साइड इफेक्ट पर मुआवजे का ऐलान  |  

युवा

आप किसी सभागृह में पहुंच जाइये, जहां कोई वक्ता भाषण दे रहा हो, श्रोताओं को देखिये। दिखाई देगा कि लगभग हर श्रोता एक जैसा है।
फरवरी का महीना आते ही आज के युवाओं में एक नया उत्साह इस बात को लेकर जाग जाता है कि इसी माह के 14 फरवरी को वैलेंटाइन डे मनाया जाता है। दरअसल देखा जाए तो वैलेंटाइन डे कोई ऐसा त्यौहार नहीं है जो किसी धार्मिक आस्था के नाम पर मनाया जाता है बल्कि इसे एक संत के नाम पर शुरू किया गया था जिसका नाम था ‘‘संत वैलेंटाइन’’। एक किताब है ‘‘आरिया ऑफ जेकोबस डी वारजिन’’ जिसमें इनका जिक्र किया गया है
यह पुरस्कार राष्ट्रीय एकीकरण को और बढ़ाने की दिशा में असाधारण प्रयासों के लिए दिया जाएगा।
‘हरित दिवाली-स्वस्थ दिवाली’ अभियान का विलय अब ‘ग्रीन गुड डीड’ अभियान में कर दिया गया है
देश की आर्थिक उन्‍नति, सांस्‍कृतिक समृद्धि, प्रकृति के प्रति हमारी संवेदनशीलता और उसकी पहचान India International Convention and Expo Centre
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहां मध्यप्रदेश पुलिस अकादमी में प्रशिक्षु पुलिस उप-अधीक्षकों और उप-निरीक्षकों को संबोधित करते हुए कहा कि युवा पुलिस अधिकारी शोषण और अन्याय को समाप्त करने के लिये कार्य करें। कानून व्यवस्था की स्थिति को बेहतर बनाये रखने में योगदान करें।
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि सिंहस्थ के दौरान सेवाएँ देने वाले 2790 अस्थाई होमगार्ड के जवानों को होमगार्ड की नियमित सेवा में शामिल किया जायेगा। इस संबंध में केबिनेट में निर्णय हो गया है। इन जवानों को 20 हजार 700 रूपये प्रति माह वेतन दिया जायेगा। इस पर वर्ष भर में 75 करोड़ रूपये व्यय होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मुख्यमंत्री निवास पर होमगार्ड सैनिक सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में गृह मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह उपस्थित थे।
Advertisement


Copyright @ 2018 Rashtriya News Network